Thursday, June 20, 2024
No menu items!
spot_img
spot_img
होमलाइफस्टाइलआखिर क्या होती हैं ड्रग्स फीलिंग

आखिर क्या होती हैं ड्रग्स फीलिंग

ड्रग्स के सेवन को लेकर बड़े स्तर पर काफी हंगामा देखने को मिलता है, सबसे पहले हम आपको बता दे इसका उपयुग दवाईयों मे भी किया जाता है, और कई लोग इसे नशा करने के लिए भी इसतेमाल करते है।
लोगो का कहना है की ड्रग्स का सेवन करने से स्ट्रैस कम होता है, पर इस बारे में मैक्स हॉस्पिटल पटपड़गंज के सीनियर सायकाइट्रिस्ट डॉक्टर राजेश कुमार का कहना है कि कोई भी ड्रग हमारे ब्रेन के मिड पार्ट में पहुंचने पर प्लेजर ऐक्टिविटीज के सर्किट में जाकर काम करता है। आमतौर पर ब्रेन का यह हिस्सा सेक्स, फूड, प्लेजर ऐक्टिविटीज, म्यूजिक आदि के कारण ऐक्टिव होता है। ड्रग्स भी ब्रेन के इसी सर्किट पर काम करता है और ड्रग लेने के बाद हाई फील होने लगता है।

क्या होती है हाई फीलिंग?
हाई फील करने के दौरान लोग खुद पे काबू नही कर पाते है और चुसत महसूस करते हैं। इस दौरान लोग आस-पास के माहौल से कट जाते हैं और तनाव देनेवाली बातों को भूल जाते हैं, इसका सेवन करने से कुछ समय के लिए नींद और थकान भी गायब हो जाती हैं।

ADDICTION_JSTNEWS
ADDICTION_JSTNEWS

हाई फील में होते हैं ‘लो’ काम

व्यक्ति जब  हाई फील करता है तो उसको किस काम को करना है और किसे नहीं उसे यह तय करने में भी मुश्किल होती है। इस कारण उनका व्यवहार सामान्य स्थिति की अपेक्षा में बहुत अधिक बदल जाता है। इस अवस्था में लोग रेप, ऐक्सिडेंट, चोरी और दूसरे इंपल्सिव बिहेवियर करने लगते हैं। इस दौरान व्यक्ति ऐसे काम नहीं कर पाता है, जिनमें पूरी तरह सजगता की जरूरत होती है।

फन के लिए लेते हैं
आमतौर पर एडिक्शन के शिकार लोग ड्रग्स का सेवन फन के लिए करते हैं। लेकिन लोग अपने ड्रग्स अडिक्शन का कारण हमेशा अपने ऊपर ना लेके किसी और को दोषी ठहराते हैं। जैसा कि इन देशों में तो लीगलाइज है ड्रग्स लेना, इसलिए भारत में भी इन्हें लेने की छूट होनी चाहिए। जबकि उन्हें बात की जानकारी नहीं होती है कि जिन देशों में इन ड्रग्स पर पाबंदी नहीं है, वहां भी मेंटल इलनेस के इलाज के लिए इन ड्रग्स का सेवन नहीं किया जाता है। इसे सायकॉलजी की भाषा में डिफेंस मैकेनिज़म कहा जाता है।

COCAINE_JSTNEWS
COCAINE_JSTNEWS

हर प्रफेशन में है स्ट्रेस
डॉक्टर राजेश कहते हैं कि जितना स्ट्रैस आपको सफलता के स्तर पर पहुंचने के लिए लेना पड़ता है, उससे अधिक स्ट्रैस आपको सफलता की ऊंचाइयों पर बने रहने के लिए लेना पड़ता है। इस कारण लोग अपने स्ट्रैस को कम करने के लिए ड्रग्स का सेवन करते है।

स्ट्रेस से बचने के लिए क्या करें
डॉक्टर राजेश के अनुसार, स्ट्रेस कम करने के कई दूसरे तरीके होते हैं, जो शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बनाने का काम करते हैं। इनमें माइंडफुलनेस प्रैक्टिस, मेडिटेशन, योगा और अन्य स्प्रिचुअल प्रैक्टिस की जा सकती हैं और सायकाइट्रिस्ट से ट्रीटमेंट, सायकॉलिजस्ट से काउंसलिंग या स्प्रीचुअल काउंसलिंग ले सकते हैं। ये सभी स्ट्रेस से लड़ने के हेल्दी तरीके हैं।

यदि कोइ तनाव कम करने के लिए ड्रग्स लेता हैं तो बस कुछ देर के लिए अपने स्ट्रेस को दूर कर पाता हैं। लेकिन इसके साथ ही खुद को अन्य समस्याओं में झोंक देता हैं। इनमें मेंटल और फीजिकल दोनों तरह की बीमारियां शामिल हैं।

- Advertisement -spot_img

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -spot_img

NCR News

Most Popular

- Advertisment -spot_img